शनिवार, 10 जुलाई 2010

लड़की और नाखून

तुम
अपनी
उँगलियों के नाखून
बढ़ा लो
हो सके तो
तराश कर
नुकीले कर लो
जब भी कोई तुम्हें
अपमानित करे
दसों नाखून
गड़ा दो उसके सीने में
गड़ाए रखो
रक्तरंजित होने तक
ताकि
पता चल जाए उसे
कि
अपमान जन्य पीड़ा
कितनी मर्मान्तक होती है
सब कुछ बर्दाश्त करते रहने की बजाए
शुरुआत के तौर पर
तुम इतना तो कर ही सकती हो
अपनी
उँगलियों के नाखून
लम्बे और पैने

6 टिप्‍पणियां:

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

एक फिमेले होकर और ऐसी रचना पढ़ कर सबसे पहले वाह ही निकलेगी.

कितनी सही और जबरदस्त बात कह दी आपने.

जागृत करती हुई रचना.

आभार.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सशक्त रचना....आभार


आप कृपया यहाँ भी आयें...

http://geet7553.blogspot.com/2010/07/blog-post_14.html

Divya ने कहा…

jabardast andaaz hai aapke lekhan ka.

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

आप की रचना 16 जुलाई के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com
आभार
अनामिका

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... मन के भाव कवि की कल्पना को कहाँ तक ले जाते हैं .... बहुत सार्थक रचना ...

Yogesh ने कहा…

Aapki rachna aisi, aisa lagta hai jaise bolti ho maasi
Aapki rachna aisi, man ko chu jaye jaisi,
Aapki rachna hai aisi,jo hume deti hai power jaise,
Aapki rachna me wo baat hai, jo mahilao ko himmat deti hai,